bm bm bm bhola nachda hai

भोला मेरा मस्त मलंग है जटाजुट और अंग बसम है,
मस्तक चंदा बड़ा ही सजदा गल विच फनियाँ वज्दा है,
बम बम बम भोला नचदा है

भंग दी मस्ती चढ़ जावे जदो सुध भुध खो के नचदा,
देवी देवते देव लोक विच आँगन सारा नाच्दा,
नदियां सागर झरने पर्वत कण कण सारा नचदा है,
बम बम बम भोला नचदा है

चारे दिश्वा नो ग्रह संग पेहला पाउंदे रुतबे ने,
जीव जंतु सब फुल लुटवा महिमा गाउँदे थकदे नि
विच जटावा शिव शंकर दे रंग फुंकारा हुक्दा एह,
बम बम बम भोला नचदा है

सोहन महीना चढ़ जावे जदो शिव जैकारे लगदे ने,
कावड़ चूक चूक श्रदा दे नाल सारे भंडारा पाउंदे ने,
शिव शंकर दी मस्ती दे विच मंगल बम बम रत दा है,
बम बम बम भोला नचदा है

Leave a Reply