chal bhagta dar babe de chaliye

चल भगता दर चलिये
सहनु जोगी ने आप भुलाया,
बसा भर भर जांदियाँ ने,
सोहना चेत महिना आया ,

मेरे पौनाहारी ने,
आसन विच गुफा दे लाया,
खाली झोलियाँ भरदा ऐ,
उस दा अंत किसे ना पाया,

पहला जा के असा ने जी,
मथा टेकना शाह्तालैया,
नाके जेहे बालक ने,
लस्सी रोटियां जिथे दिखाईया,

रत्नों दे मंदिरा ते ,
मथा टेके दुनिया सारी,
ओहनू धर्म दा पूत केह के,
भर गई माता रत्नों लुहारी,

सहनु लाल बक्शेया ऐ,
मेहर है बाबा जी दी होई,
मेरे नाथ जेहा भगतो,
इस जग ते होर न,

ओहदी शकती नियारी ऐ,
ओह ता हथ ते सरो जमावे,
खाली झोलियाँ भर दिंदे,
जेह्डा सचे दिलो ध्यावे

करा होर की सिफत ओहदी,
ओह ता रब बनके है आया,
सोहनी पटी वाले ने,
उस्तो जो मंगेया सो पाया,

जो पूजा करदे ने
ओह हर साल गुफा ते जांदे,
जोगी चिमटे वाले दे,
ओह ता रज रज दर्शन पाउंदे,

Leave a Reply