chaunki di vadhaai

किरपा तेरी दे नाल चोंकी नु असी ला लिया,
गुफा तो तेनु कर अरजा बुला लिया,
मोर दी सवारी करके आई पौनाहारीया,
चौंकी दी वधाई आ जा लै लै पौन्हारियां,

ढोलगिरी पर्वत ते मंदिर तेरे सज दे,
भगत प्यारे चडी जांदे घज घज के,
भगता नु दर्श दिखाई पौनाहारियां,
चौंकी दी वधाई …….

मन वस भगता दे बेड़े करो पार बाबा,
बिगड़े कम साडे तू देवी सवार बाबा,
अम्बरा ते गुडी नु चडाई पौनाहारियां,
चौंकी दी वधाई ……

चोंकी तेरी दे बाद भोग बाबा पावंगे,
रोट मनी परशाद आते झंडे वी चडावागे,
भगत निमाने घर फेरा पाई पौनाहारी,
चौंकी दी वधाई …

Leave a Reply