chhad jana duniya rangila baag

छड्ड जाना दुनियां रंगीला बाग़
इक दिन छड जाना,

धिया प्यारियां पुत्र प्यारे,
सबना ते प्यारे घरवार इक दिन छड जाना,
छड्ड जाना दुनियां रंगीला बाग़

जमीन प्यारी जाइदाद प्यारी,
सबना तो प्यारे घरवार इक दिन छड जाना,
छड्ड जाना दुनियां रंगीला बाग़

ना कर बंदियां माया माया,
एह माया दो पल दी छाया,
कुझ नि रहना पास इक दिन छड जाना,
छड्ड जाना दुनियां रंगीला बाग़

पंज तत्ता दा पुतला बन्देया,
काम क्रोध लोभ मोह विच फसया,
क्यों करदा हंकार एक दिन छड जाना,
छड्ड जाना दुनियां रंगीला बाग़

देह तेरी अगनी विच जलना,
दुनी वि तेरे संग नहियो चलना,
जमा ने पूछना हिसाब इक दिन छड जाना,
छड्ड जाना दुनियां रंगीला बाग़

Leave a Reply