chimte te chimta bajda maiya dar chimte te chimta

चिमटे ते चिमटे भजदा मैया दर चिमटे ते चिमटे भजदा,
ऐसा भजदा चिमटा मैया दर देख के दिल न रजदा,
चिमटे ते चिमटे भजदा

इस चिमटे दा छेनेया दे संग कड़े ने रोब वदाया,
चम चम चमके छन छन छनके लगदा दून सवाया,
जित्थे खड़ के ओस जगह तो दुःख दा दलीदर भजदा,
चिमटे ते चिमटे भजदा….

एह चिमटा जद जद भी नाथा दे धुनें ते गडेया
कणो फड़ शैतान नु टंगिया भलिया विचो कडैया,
भगता दी रख्या करदा रखवाला सब दी कजदा,
चिमटे ते चिमटे भजदा

रूह दा चिमटा वज्दा जांदा नाम मैया दा लेंदा,
श्रदा नाल कमल हीर भी माँ दियां सिफ़्ता कहंदा,
राजू भी हरी पूरियां आखे मंदिर दे विच सजदा,
चिमटे ते चिमटे भजदा

Leave a Reply