chori chori ghar gopiyan de vad da nandlal fadeya geya

चोरी दूध दही मखन दी करदा नन्दलाल फड़ेया गया
फड़ेया गया नि फड़ेया गया नन्द दा लाल फड़ेया गया,
चोरी चोरी घर गोपियाँ दे वड दा नन्दलाल फड़ेया गया

निक्का हुंदा गोपिया दे घर चला जन्दा सी,
मुरली ब्जाउन्दा नाले रास रचाओंदा सी,
नि स्वाद ले ले मखन खावे नाले भेद ले आवे उस घर दा,
चोरी दूध दही मखन दी करदा नन्दलाल फड़ेया गया

ताने ने मार दिल गोपियाँ ने साडेया,
कई वार मार रिया ते कई वार तारेया,
नि ताहने मेहने मार कुट्दी ओह ता जरा भी न परवाह करदा,
नन्द लाल फ्ड़ेया गेया
चोरी दूध दही मखन दी करदा नन्दलाल फड़ेया गया,

राधा नाल गोपिया ने लाया नाका गाव दा,
फड लिया चोर सिर मोर श्याम संवारा,
नि पूछ गिश किती गोपियाँ पहला ना नु रह करदा,
नन्द लाल फ्ड़ेया गेया
चोरी दूध दही मखन दी करदा नन्दलाल फड़ेया गया,

मधुप हरी नु जद गोपियाँ डराया सी,
नटखट छलिया जरा न गब्राया सी,
नि हस हस कहन लगा मैं ता बाल लीला पया सी करदा,
नन्द लाल फ्ड़ेया गेया
चोरी दूध दही मखन दी करदा नन्दलाल फड़ेया गया,

Leave a Reply