daati ne mehra kar ditiyan

 

क्यों शेरावाली दा शुकर मनाइए ना दाती ने मेहरा कर दितियाँ,

दाती सब दे दुखड़े हरदी दुखड़े हरदी मेहरा करदी,
नच नच के जय कारे लाइए ना,
दाती ने मेहरा कर दितियाँ…….

दाती वंडदी मिठियां मुरादा जो मियाँ दे लढ़ लग जन्दा,
क्यों दिल दाती दे चरनी लाइयाँ ना,
दाती ने मेहरा कर दितियाँ,

दिल विच माँ दी ज्योत जगाइए,
भेटा सब दे संग रल गाइये,
शेरावाली दा जगन रचाइए ना,
दाती ने मेहरा कर दितियाँ,

दुर्गा भजन bhajan lyrics

 

This Post Has One Comment

  1. Pingback: he gajmukh ganpat gannayak karte hai hum sab teri vandana – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply