dar bhaga naal mileya e

दर भागा नाल मिलिया ऐ,
सतगुरु चरना च मेरा जीवन पलिया ऐ,

नशा कर के नहीं चड़ेया ऐ,
किवे समजावा सब नु अखा श्याम नल लड़ियाँ ने,

सेठ मूल तो वेआज खट दा,
नाम सिमर बंदेया पापा दा भोज घट दा,

तुम्बा भ्ज्दा न तार बिना,
सेवा भावे लख करिये रब मिलदा न प्यार बिना,

तंदूर भी ताई होई है,
इक दिल रोवे ते दूजा याद शाम दी आई होई है,

गोपाली पागल दसदा,
भगता दे दिल वसदा लख करके हॉवे न जुदा,

Leave a Reply