darshan diyo aay pyaare

दरशन दीजो आय प्यारे
तुम बिनो रह्यो ना जाय

जल बिनु कमल चंद्र बिनु रजनी
वैसे तुम देखे बिनु सजनी
आकुल व्याकुल फिरूं रैन दिन
विरह कलेजो खाय

दिवस न भूख नींद नहीं रैना
मुख सों कहत न आवे बैना
कहा कहौं कछु समुझि न आवे
मिल कर तपत बुझाय

क्यूं तरसाओ अंतरयामी
आय मिलो किरपा करो स्वामी
मीरा दासी जनम जनम की
पड़ी तुम्हारे पाय

Leave a Reply