de ke charna de vich thaa tu laaiyan mauja hi mauja

दे के चरना दे विच था तू लाइयाँ मौजा ही मौजा,
माये छड़ी न फड के बाह तू लाइयाँ मौजा ही मौजा,
दे के चरना दे विच था …….

तेरे करमा तो पहला माये कौन गरीब नु जांदा सी,
असी हां कंकर तेरी गली दे कौन सहनु पहचानदा सी,
तेरे करके होया मेरा ना तू लाइयां मौजा ही मौजा,
दे के चरना दे विच था…….

तू नजर सवली जद भी किती कम मेरे होई जांदे ने,
जो भी अड़े सी कम माये एक दम मेरे होई जांदे ने,
मेनू माँ कदे न किती नाह तू लाइयाँ मोजा ही मोजा,
दे के चरना दे विच था ………

की बन्दा सी साडा माँ जे तेरा सहारा मिलदा ना,
कोमल जलंधरी दुभ जाना स जे किनारा मिलदा ना,
तेरा लख लख शुकर मना तू लाइयां मौजा ही मौजा,
दे के चरना दे विच था

Leave a Reply