dhune vale di jai chimte vale di jai

धुनें वाले दी जय चिमटे वाले दी जय,
दूधाधारी दी जय पौन्हारी दी जय,
धरती कहन्दी अम्बर कहंदा तू भी भगता कह,
धुनें वाले दी जय चिमटे वाले दी जय,
सिंग्नियाँ वाले दी जय बोह्डा वाले दी जा,

सोने रंगिया सिर ते ज्टावा अंग भभूत रमाई ऐ,
शिव भगत इस नाथ दे नैनी शिव दी ज्योत समाई ऐ,
एहदे हुकम विच चंद ते तारे सूरज वंडदा लोह एहदी,
नदियाँ झरने सागर इसदे फुला विच विच खुश्बो एहदी,
ऐ बंदिया तू एहदी रजा विच हरदम राजी रह,
धुनें वाले दी जय चिमटे वाले दी जय,
पौआ वाले दी जय गौआ वाले दी जय ,

शाह तलाइया हेठ गुरने परख समाधि लाइ सी,
बनखंडी अन्दर चारियां गौआ लीला अजब रचाई सी,
माँ रतनो तो सुनियाँ गला इसने जदों कमाल दियां,
लस्सी रोटीयां कड़ दिखाईय इसने बारा साल दियां,
इस दी लीला देख के सब गए चकर दे विच पै,
धुनें वाले दी जय चिमटे वाले दी जय,
झोली वाले दी जय मोरा वाले दी जय,

गुरु गोरख दा मान तोडेया मोरा वाले स्वामी ने,
भगत जना दे बेड़े तारे जोगी अन्तरयामी ने ,
मोत दे मुहो कड़ लेनदा ऐ अपने पूजन वालेया नु,
गुजियाँ सटा मारदा आखिर पापी दिला दे कालियां नु,
बंदियां सचे मन नाल इस्तो जो चाहे तू लै,
धुनें वाले दी जय चिमटे वाले दी जय,
दूधाधारी दी जय पौनाहारी दी जय

Leave a Reply