dubbi hoyi tar jaayegi

शाहतलाईयाँ चंन चड़ेया,
जोगी आये रत्नों दे वेहड़े,
बारां साल सी भगती किती,
फिर लाये गुफा विच डेरे,
तू वी जा के दर्शन पा लै,
दुःख कट जानगे तेरे,
बाबा बालक सिद्ध जोगी नाथ दियां,
पैयाँ धुमा चार चुफेरे ,

लै लै पौनाहारी सिद्ध जोगी दा नाम,
की धुभी होई तर जायेगी,
लै लै पौनाहारी सिद्ध जोगी दा नाम,
धुभी होई तर जायेगी,
फड बालक नाथ दी बाह,
की धुभी होई तर जायेगी,
लै लै पौनाहारी सिद्ध जोगी दा नाम,
की धुभी होई तर जायेगी,

बन मंगती ओहदे दरबार दी,
जिहने सारी दुनिया तार ती,
क्या बात है उस सरकार दी,
सुने सब दी ओह पुकार नाथ,
लै लै पौनाहारी सिद्ध जोगी दा नाम,
की धुभी होई तर जायेगी,

जोगी सब ते कर्म क्माउन्दा ऐ,
भुलेया नु रस्ते पाउंदा ऐ,
ओह विछडेया ताई मिलाउन्दा ऐ,
जो करदा जा के अर्ज अर्ज,
लै लै पौनाहारी सिद्ध जोगी दा नाम,
की धुभी होई तर जायेगी,

सिंगी नाम ओहदे दी पा लै तू,
जोगी नाल अखियाँ ला लै तू,
ओहने नाम दे रोट बना लै तू,
दसी ओस्नू दिल दा दर्द दर्द,
लै लै पौनाहारी सिद्ध जोगी दा नाम,
की धुभी होई तर जायेगी,

मेरी झोली नाथ ने भर दिति,
किरपा मेरे ते कर दिति,
मेरी सोच तो वध के दे दिता,
जा के देख लै तू वी प्यार प्यार,
लै लै पौनाहारी सिद्ध जोगी दा नाम,
की धुभी होई तर जायेगी,

सोहनी पिंड पट्टी दा कहंदा ऐ,
जो वी जोगी नु मन लेनदा ऐ,
ओहनू घाटा कदे न पेंदा ऐ,
जोगी नु पूजे अर्श फर्श,
लै लै पौनाहारी सिद्ध जोगी दा नाम,
की धुभी होई तर जायेगी,

Leave a Reply