fataya kaleja mera phir bhi main roi naa

मेरी मां अम्बे मां भोली मां
फटया कलेजा मेरा फेर वी मैं रोई ना
सबना नू वीर दिते मेरा वीर कोई ना
फटया कलेजा मेरा फेर वी में रोई ना
अम्बे मां मेरी मां भोली मां

इक ना बहना नू देवे पांज सात वीर मां
मेरेया नसिबा विच क्यों खींची ए लकीर मां
ज्योंदी मर जावा गि जे सुनी हरजोई ना
सबना नू वीर……

रखड़ी दा दिन आवे रूह रूह कंबे मा
मेरे जेहि चनड्री ना किसे घर जमे ना
बीरा बिना बहना दा ए दुनिया च कोई ना
सबना नू वीर……

तकया सी जद एना अखियां दी बारी चो
बन्नदी सी रखड़ी कोई पला फाड़ साड़ी तो
तक्या जरूर सी पर ओथे में खलोई ना
सबना नू वीर……

Leave a Reply