gali de vicho kaun langeya

मेरी खुल गई पटक दे के अख नि,
गली दे विचो कौन लंगेया,
पौन्हारी उते पेंदा मेनू शक नि,
गली दे विचो कौन लंगेया,
मेरी खुल गई पटक दे के अख नि,

जद पहुये ओहदे खड खड खडके,
अख खुल गई मेरी पटक देनी तडके,
तू बी वेख लै वारि दी कुंडी खोल नी,
गली दे विचो कौन लंगेया,
मेरी खुल गई पटक दे के अख नि,

साडे घर बोल्दा बनेरे उते काग नी,
शायद साड़े ओह जगाऊंन आया भाग नि,
तू वि वेख ले बूहे दी चिक चिक नि,
गली दे विचो कौन लंगेया,
मेरी खुल गई पटक दे के अख नि,

ओहने पिंडे उते भस्म रमाई ऐ,
हथ चिमटा मोदे ते झोली पाई ऐ,
ओहना चिमटा करे छम छम नि,
गली दे विचो कौन लंगेया,
मेरी खुल गई पटक दे के अख नि,

साड़ी गली अज नाथ फेरा पा गया,
काइयां दुखियां दे दुखड़े मिटा गया,
जांदी वारि मुहो बोलेया अलख नी,
गली दे विचो कौन लंगेया,
मेरी खुल गई पटक दे के अख नि,

जेह्ड़े प्यार पौनाहारी नाल पाउणगे,
पौनाहारी बाबा ओहदी विगड़ी बनाऊंगे,
काइयां दुखियां दे दुःख गया कट नी,
गली दे विचो कौन लंगेया,
मेरी खुल गई पटक दे के अख नि,

Leave a Reply