gidha bhagta da penda ratno de vehde

विच तालियाँ लगियां रोनका भर गये सब बनेरे,
गिधा भगता दा पैंदा माता रत्नों दे वेहड़े,

लगियां प्रेम दियां अखियाँ नि माँ नाल पौनाहारी दे,
नाल पौनाहारी दे जी नाल दुधाथारी दे,
लगियां प्रेम दियां अखियाँ नि माँ नाल पौनाहारी दे,

दुरो दुरो संग चल बाबा जी दे आये,
सोहना ऐ नजारा ओहदे दर दा नि,
बाबा भगता दी खाली झोली भरदा नि…..

बारी बार बरसी खट्न गया सी खट के लेआन्दे मनके,
नि आज मेनू ना रोको सखियों मैं नचना मस्त मल्न्गनी बनके,

विच ख़ुशी दे भगता दे अज खिड़े पये ने चेहरे,
गिधा भगता दा पेंदा माता रत्नों दे वेहड़े..

बती बाल के बनेरे उते रखदी आ,
किते लंग ना जावे जोगी मेरा मेरा नि,
बती बाल के बनेरे उते रखदी आ,

एक ढाल पर तोता बोले एक ढाल पर मेना,
वेहड़े रतनो दे अज एह्दा ही भंगड़ा पैना,

कोई वंडदा प्रशाद रोट दा कोई बरफी कोई पेडे,
गिधा भगता दा पेंदा माता रत्नों दे वेहड़े,

नच लेन दे नि मेनू जोगी दे द्वारे अगे,
नच लेन दे नि मेनू जोगी दे द्वारे अगे,
नि मेनू बाबे दे रंगा विच रच लेन दे नि,
मेनू जोगी दे द्वारे अगे….
नच लेन दे नि मेनू जोगी दे द्वारे अगे,

जोगी रिधियाँ सिद्धियाँ करदा थेरी वांगु मंतर पड़दा,
ओहदी माला बोलियाँ पावे,
सुन भगता मनके ते मनका ठाह मनका,
जोगी दा मनका

चड़ गई ऐ बाबा सहनु लोर तेरे ना दी,
लोर तेरे नाम दी जी लोर तेरे नाम दी ,
चढ़ गई ऐ बाबा मेनू लोर तेरे नाम दी,

लेन देओ मेनू झूम झूम के मस्ती वाले गेडे,
गीधा भगता दा पेंदा माता रत्नों दे वेहड़े,

बाबा बालक नाथ भजन

Leave a Reply