gokul se shor aaya makhan ka chor aaya

गोकुल से शोर आया माखन का चोर आया
ये तो करता है दिन में चोरी
आज पकड़े गी गोकुल की गोरी
ये कैसा चित चोर आया
गोकुल से शोर आया माखन का चोर आया

माखन यशोदा के जिस का न ठोर है
चोरी के माखन का मजा कुछ और है
माँ यशोदा की ममता का चोर
नन्द बाबा की सांसो की डोर
ये बांधे सिर मोर आया
गोकुल से शोर आया माखन का चोर आया

दिन में गोपाल बाल मटकी उतारे
माखन समेट सारे मुह को सवारे,
कभी ग्वालिन से करे सीना जोरी,
मिले न माखन ऊँगली मरोड़ी
देखो ग्वालो का जोर आया
गोकुल से शोर आया माखन का चोर आया

Leave a Reply