gora ke lala rakhiyo ji rakhiyo mahari laaj ji

गोरी के लाला रखियो जी रखियो म्हारी लाज जी,
हाथ जोड़ थारी करू वंदना सुन लीजियो महाराज जी,
गोरी के लाला रखियो जी रखियो म्हारी लाज जी,

इक दंत दया वनत कहावो महिमा थारी भारी,
चार बुजा माथे तिलक सुहावे शोभा सब से न्यारी,
करो सवारी मूषक की देवो के सरताज जी ,
गोरी के लाला रखियो जी रखियो म्हारी लाज जी,

धान धरे जो प्रथम तिहारो मन वंचित फल पावे,
मिट जावे सब विघ्न विनाशक रिद्धि सीधी घर आवे,
सब की नाइयाँ पार करो म्हाने करियो भव से पार जी,
गोरी के लाला रखियो जी रखियो म्हारी लाज जी,

पूजा पाठ न आवे कोई कैसे तुम्हे मनाओ,
अव गुण महारे ध्यान न धरियो चरनन शीश निभाउ,
प्रीत सदा चरनन की पाउ दे दीजियो जी वरदान जी,
गोरी के लाला रखियो जी रखियो म्हारी लाज जी,

Leave a Reply