gungaan tera yash gaan tera gaati hui ye fijaaye

गुणगान तेरा यश गान तेरा,
गाती हुई ये फ़ज़ाए,
रंगो रंगीला सूंदर सजीला हर कोई मिलने को चाहे,
प्यारा तू प्यारा सबका सहारा दिल से ये आवाज आये,
तुमसे ना कोई देखा ना कोई श्याम प्रभु मेरे बाबा,
महका महका चेखा चेखा प्यारा ये दरबार,
देखु देखु तुझको देखु कई कई बार,

हमसे जुदा तू हम पे फ़िदा तू,
मिलता है जो कुछ चाहे,
खुद ही भुलाये गले से लगाए ,
बैठा तू है फैला के बाहे,
दुनिया में कोई ना तुमसे है कोई धरकन मेरी गुण गुनाये,
गुलशन भी फीका जिसने भी देखा देखा तुझे मुस्कुराता,
महका महका चेखा चेखा प्यारा ये दरबार,
देखु देखु तुझको देखु कई कई बार,

खुशियों का मेला न कोई अकेला,
सपने सभी के सजोये,
रिश्तो का धागा भुनता तू बाबा,
माला के मोती पिरोये
मुस्काये ऐसे सागर में जैसे खिलता कमल प्यारा प्यारा,
नैनो के जादू लेहरी लुटा दू खुद को मैं बोलू का जयदा,
महका महका चेखा चेखा प्यारा ये दरबार,
देखु देखु तुझको देखु कई कई बार,

Leave a Reply