guru ji mere shiv avtari hai guru ji mere bhole bhandari hai

हाथ जोड़ कर करू ये विनती कर गुरु जी स्वीकार,
सब दुनिया में मौज करे और सुखी वसे परिवार,
गुरु जी मेरे शिव अवतारी है गुरु जी मेरे भोले भंडारी है,

बुरा न हो किसी का जग में प्रेम ही प्रेम फेहला दो,
राग दवेश भेह चिंता से न मन कोई में लाओ,
चारो तरफ हो सुख शान्ति प्रेम माई संसार ,
सब दुनिया में मौज करे और सुखी वसे परिवार,
गुरु जी मेरे शिव अवतारी है गुरु जी मेरे भोले भंडारी है,

अँध्यारे पथ पर गुरु जी उजयारे विखरा दो,
हम सब में अवगुण बहुत है उन सबको विसरा दो,
आंख मूंद कर कर लू दर्शन हिरदये वसो मोरे नाथ,
सब दुनिया में मौज करे और सुखी वसे परिवार,
गुरु जी मेरे शिव अवतारी है गुरु जी मेरे भोले भंडारी है,

आप तो बोले नरम हिरदये हो किरपा नाथ मोहे करदो,
डुखया संगत आई है दर पर झोलियाँ सब की भर दो,
दया करो मुझ पर भी गुरु जी गाऊ तेरा गुण गान,
सब दुनिया में मौज करे और सुखी वसे परिवार,
गुरु जी मेरे शिव अवतारी है गुरु जी मेरे भोले भंडारी है,

Leave a Reply