haar haar ke haaro ka ik haar bnaya hai

हार हार के हारों का एक हार बनाया है
पहनो पहनो श्याम पहनाने सेवक आया है

इसकी कली कली में सांवरा दर भरा है मेरा
ठोकर खाके तेरे दर पे डाला डेरा
दुनिया की क्या करूँ शिकायत
अपनों का सताया है
पहनो पहनो श्याम पहनाने सेवक आया है

सांवरिया तेरी महिमा सुनके आया तेरे द्वारे
सगरद्ध के दो फूल हैं बाबा कुछ ना पास हमारे
एक बार तो कृपा कर दो क्यों तड़पाया है
पहनो पहनो श्याम पहनाने सेवक आया है

तड़प तड़प के तड़प रहा हूँ दर्शन दो दातारि
अब क्यों करे आबर सांवरिया लीले के असवारी
हाथ जोड़कर खड़ा मैं दर पे शीश झुकाया है
पहनो पहनो श्याम पहनाने सेवक आया है

सुनो सांवरा कहे रविंदर हुआ बावरा तेरा
इस मतलब की दुनिया में बाबा मुझे आसरा तेरा
नैया मेरी डगमग डोले जी घबराया है
पहनो पहनो श्याम पहनाने सेवक आया है

Leave a Reply