haaran vale jihna ute mehar karde najar naa uande oh ta jholi bharde

हारां वाले जिह्ना उत्ते मेहर करदे,
नजर ना आउंदे ओह ता झोली भरदे,

पला अस्सा फड़ियाँ ऐ नहियो छडना,
तेरे पीछे भावे पवे जग छड़ना,
बेठे रहिये हर वेले तेरे दर ते,
नज़र ना आउंदे ओह ता झोली भरदे,
हारा वाले जिह्ना उते…….

जिह्ना प्रेमियां ने दर अलख जगाई ऐ,
नाम वाली दात दाता तेरे कोलो पाई ऐ,
दुनियां दे कोल ओह ता नहियो डरदे,
नज़र ना आउंदे ओह ता झोली भरदे,
हारां वाले जिह्ना उत्ते….

जिह्ना मेरे श्याम नाल लाइयाँ अखियाँ,
लोक लाज ओहना तो न गैयाँ राखियाँ,
जग दियां तोहमता तो नहियो डरदे,
नज़र ना आउंदे ओह ता झोली भरदे,
हारां वाले जिह्ना उत्ते….

चरना दे विच एहदे जन्नत जगाई ऐ,
भागा वालियां ने एह वि रहमत पाई ऐ,
दुनियां दे कोल ओह ता नहियो डरदे,
नज़र ना आउंदे ओह ता झोली भरदे,
हारां वाले जिह्ना उत्ते….

Leave a Reply