hanumant maha balvant prabho

हनुमन्त महा बलवन्त प्रभो
हरि लीजै प्रभु विपद् हमारी
आरतजन को त्रास निवारिये
देहु अभय कपि विनय हमारी

हे पवनपुत्र वरदायक हो
प्रभु-शपथ अमरपददायक हो
गति सर्वत्र तुम्हारि प्रभु
तुम ज्ञान बुद्धि बलदायक हो

प्रभु अंजनिसुत बलधारक हो
सुग्रीव महादुख हारक हो
तुम अक्षय के क्षयकारक हो
सीता के त्रास निवारक हो

संग्राम महाभयकारक हो
असुरों के प्राण विदारक हो
लक्ष्मण के जीवनदायक हो
रघुपति के शोक-निवारक हो

रति चरणकमल रघुनायक हो
पद भक्ति-मुक्ति सुखदायिनि दो
जो जगत मोह अति भ्रमित हुए
प्रभु राम-भक्ति अनपायिनि दो

Leave a Reply