hari naam sumir sukhdhaam jagat

हरी नाम सुमर सुखधाम जगत में जिवना दो दिन का
सुन्दर काया देख लुभाया गरब करै तन का

गिर गई देह बिखर गई काया ज्यूँ माला मनका
सुन्दर नारी लगै पियारी मौज करै मनका
हरी नाम सुमर सुखधाम जगत में जिवना दो दिन का
सुन्दर काया देख लुभाया गरब करै तन का

काल बली का लाग्या तमंचा भूल जाय ठन का
झूठ कपट कर माया जोड़ी गरब करै धन का
हरी नाम सुमर सुखधाम जगत में जिवना दो दिन का
सुन्दर काया देख लुभाया गरब करै तन का

सब ही छोड़कर चल्या मुसाफिर बास हुआ बन का
यो संसार स्वप्न की माया मेला पल छिन का
ब्रह्मानन्द भजन कर बन्दे नाथ निरंजन का
हरी नाम सुमर सुखधाम जगत में जिवना दो दिन का
सुन्दर काया देख लुभाया गरब करै तन का

Leave a Reply