hath dati da hai ser te mainu fikar na koi eh

क्यों डोला मैं गबरावा हथि माँ ने कीतियां छावा,
मैं लख लख शुकर मनावा रेहमत तेरी होइ है,
हथ दाती दा है सिर ते मैनु फ़िक्र न कोई ऐ,

बड़ा कुझ दिता दाती कासे दी न थोड़ है,
भर दे खजाने पूरी किती हर लोड है,
हूँ हर इक सुख हंडावा खुशिया नाल भरियाँ रावा रेहमत तेरी होइ है,
हथ दाती दा है सिर ते मैनु फ़िक्र न कोई ऐ,

उदास जाहे चेहरिया ते रोनका ने आ गियां,
चारे पास खुशिया ही खुशिया ने छा गइयाँ,
सब कीतियां दूर बलावा,
मावा ते हुन्दियां मावा,
रेहमत तेरी होइ है,
हथ दाती दा है सिर ते मैनु फ़िक्र न कोई ऐ,

राजू ग्रेवला ओहदे रंग एही जांदी,
सच्चे एते झूठे नु ओ पल च पछाण दी,
तेरी ज्योत मैं नित जगावा गुण तेरे दातिए गावा रेहमत तेरी होइ है,
हथ दाती दा है सिर ते मैनु फ़िक्र न कोई ऐ,

Leave a Reply