hath fadke kaasa naatha da

एह कासा बुल्ले शाह ने हथ फडेया,
शाह इनाइत नु गुरु बनाउना दे लई,
एह कासा बाबा फरीद ने हथ फडेया,
गुरु दे का नु मॉस खुआउन दे लई,
पत्थर नु मन ठाकुर धने ने फडेया कासा,
रोटी मकी दी साग खुआउन दे लइ,
रांझे रब मन हीर नु फडेया कासा,
वेले हीर दे दर्शन पाऊंन दे लइ,
एह कासा सुदामा ने हथ फडेया,
कृष्ण यार तो गरीबी मिटाऊं दे लई,
एह कासा भीलनी ने हथ फड़ेया,
झूठे बेरा दा राम नुभोग लाऊंन दे लई,
एह कासा फकीरा दे हथ फड़ेया,
आपने मुर्शद विचो रब नु पाऊं दे लई,
कोसल जालंधरी जोगन ने हथ फड़ेया कासा,
खैर जोगी दी जोगी तो पाऊंन दे लई,

हथ फड के कासा नाथा दा,
मैं जोगी मंगन चली आ,
माये नि माये मेनू रोकी ना,
जींद सूली टंगन चली आ,
हथ फड के कासा नाथा दा,

हथी ला लई नाथ दी मेहँदी,
नाथ वले चल मुड मुड कहन्दी,
हूँ जग दी परवाह न मेनू
कह लई दुनिया जो वि कहन्दी,
बाही पा के बंगा प्यार दियां,
जिन्दगी नु रंगन चली आ,
हथ फड के कासा नाथा दा,

ताजा तख्ता दी लोड न कख सजना,
सहनु वांग गुलाम रख सजना,
मैं अपने आप नु भूल गई आ,
लड़ी नाल तेरे जद अख सजना,
मैं औखे रस्ते पे गई आ,
सब हदा तपन चली आ,
हथ फड के कासा नाथा दा,

मेरे विखरे वाल तो वेखो,
विच मुह्ब्ता हाल ते वेखो,
ता ता थैयां करदी आवा,
पेंदी आज धमाल ते वेखो,
मैं महफ़िल बेठ मलंगा दी,
खुद बनन मलंगन चाली आ,
हथ फड के कासा नाथा दा,

तेनु मंगेया झोली अड़ सजना,
ना देवी विचाले छड सजना,
मन कोमल जलंधरी रब साइयां,
किते होर न मंगन चली आ,
हथ फड के कासा नाथा दा,

Leave a Reply