hey swami hey antaryaami

स्वामी सब संसार के सांचे श्री भगवान
स्थावर जंगम पावक पाणी धरती बीज समान
सबमें महिमा थांरी देखी कुदरत के करबान

विप्र सुदामा को दाळद खोयो बाले की पहचान
दो मुठ्ठी तांदुल की चाबी दीन्हों द्रव्य महान

भारत में अर्जुन के आगे आप भया रथवान
अर्जुन कुळ का लोग निहार्या छूट गया तीर कमान

ना को मारे ना कोई मरतो तेरो ये अग्यान
चेतन जीव तो अजर अमर है ये गीता का ग्यान

मेरे पर प्रभु किरपा कीजौ बांदी आपणी जान
मीरां के प्रभु गिरिधर नागर चरणकमल में ध्यान

Leave a Reply