ik vaari mukh vicho bol sheravaliye

इक वारी मुख विच्चों बोल बोल शेरा वालिये,
बोल शेरा वालिये बोल मेहरा वालिये,
रख चरना दे कोल बोल शेरा वालिये,
इक वारि मुख विचो…..

तेरा दर छड दाती केह्डे दर जावा,
किसनू मैं दिल दा हाल सुनावा,
दुःख सुख मेरे नाल फोल फोल शेरा वालिये,
इक वारी मुख विच्चों बोल…

कोई न दिल दे दर्द नु जाने,
आपने सी जो हो गए बेगाने,
ढगमग दिल रह डोल डोल शेरा वालिये,
इक वारी मुख विच्चों बोल …..

वसदा रहे माँ तेरा एह दुआरा,
दोषी बचेया नु देवे जो सहारा,
ताहियो आया चल तेरे कोल कोल शेरा वालिये,
इक वारी मुख विच्चों बोल

Leave a Reply