iske hote haar kaha pucho in diwano se

कभी मत घबराना दीवानो का दीवाना
इसके होते हार कहाँ कभी मत घबराना

फाटक से ये उठता अपने गले लगता
इनके सहारे चलता जो जोड़े इनसे नाता
पूछो इन दीवानो से गहरा इनका याराना

ये समां है पीरा सजा है श्याम हमारा
बैठा मुरलिया वाला ये सेठ सांवरिया प्यारा
लिखे तक़दीर तेरी दुनिया कहे दीवाना

मिलना ज़रा तू आके मेरे श्याम के द्वारे
यहाँ नहीं हैं पहरे जो श्याम को पुकारे
दौड़ा चला आएगा सुनके दिल का अफसाना

तू मगन रहना मेरे श्याम से ये कहना
करूँ भजन मैं तेरा मेरे संग संग रहना
श्याम सजन डूबा देख तेरा नज़राना
इसके होते हार कहाँ……….

Leave a Reply