jabse dekha tumhe jane kya ho geya eh khatu vale shyam main tera ho geya

जबसे देखा तुमहे जाने क्या हो गया,
खाटू वाले श्याम मैं तेरा हो गया,

तू दाता है तेरा पुजारी हु मैं,
तेरे दर का बाबा भिखारी हु मैं,
तेरी चौकठ पे दिल मेरा खो गया,
ऐ खाटू वाले श्याम मैं तेरा हो गया,

जबसे मुझको श्याम भक्ति मिली,
मेरे मुरझाये मन में ये कलियाँ खिली,
जो न सोचा कभी हां वही हो गया,
ऐ खाटू वाले श्याम मैं तेरा हो गया,

तेरे दरबार की वो अज़ाब शान है,
जो भी देखे वही तुझपे कुर्बान है,
तेरी भक्ति का मुझको नशा हो गया,
ऐ खाटू वाले श्याम मैं तेरा हो गया,

शर्मा जब तेरी जानकी का दर्शन किया,
तेरे चरणों में तन मन ये अर्पण किया,
एक दफा खाटू नगरी में जो भी गया,
ऐ खाटू वाले श्याम मैं तेरा हो गया,

Leave a Reply