jad vich dhumaa teriyan jagdambe maa sun le maa do gallan kol veh ke meriya

जग विच धुमा तेरिया जगदम्बे माँ ॥
सुण लै माँ दो गल्ला , कोल वैह के मेरिया
जग विच………

माँ वैष्णो मेरी वी तू बेड़ी तार दे,
मैं बछड़ा माँ तेरा मावां वाला प्यार दे ॥
सुण लै मेरी माँ दुहाई ॥, या तू ठोकर मार दे,
जग विच………

विच काँगड़ा मंदिर तेरा सझदा पेया ,
कोई न मुढ़िया खाली जेहड़ा दर ते आ गया ॥
शक्ति वी भगती वी ॥,मेरी दाती वी मिले
जग विच…..

माँ वैष्णो जग मग तेरी जोत जगे ,
बड़े बड़े अपराधी तेरे चरणी आ लगे ॥
कर सनान गंगा बाण ॥, ऐथे हर कोई तर गया,
जग विच…………

स्वर:-अमित शालू जी
दुर्गा भजन

This Post Has 3 Comments

  1. Pingback: banke jogi tu malanga manke phere sai – bhakti.lyrics-in-hindi.com

  2. Pingback: ud ja kala kangala sanwariyo aawe re baba ko lyade re sandesha vavala – bhakti.lyrics-in-hindi.com

  3. Pingback: sai tera gaav sab ko bhulaaye re – bhakti.lyrics-in-hindi.com

Leave a Reply