jeewan vagda paani

वेला हथ ना औना जी ओ बंदेया जीवन वगदा पानी,
ओहना नाल ध्या लै तू जिसने विगड़ी बात बनाउनी,
जे भवजल लंगना जी जींदडीई जप लै गुरा दी वाणी,
वेला हथ ना औना जी ओ बंदेया जीवन वगदा पानी,

तू काह्तो पाप कमाना तेरा दोलत मुख निशाना,
इस माया ने नाल ना जाना फिर जींदडी क्यों रुलानी,
वेला हथ ना औना जी ओ बंदेया जीवन वगदा पानी,

तेरा किता तुहियो पाना न साथ किसी ने जाना,
तू अंत वेले पछताना जद टूटनी साहा दी तानी,
वेला हथ ना औना जी ओ बंदेया जीवन वगदा पानी,

तुर जाने सब राजे रानी पल जिन्दगी दे खुर जाने,
महल रेत दे बुर जाने नही रहनी रोज जवानी,
वेला हथ ना औना जी ओ बंदेया जीवन वगदा पानी,

तू कर लै सोच विचारा रह जग विच नाल प्यारा,
नही रेह्निया रोज बहारा तू न कर होर नादानी
वेला हथ ना औना जी ओ बंदेया जीवन वगदा पानी,

इथे लगाया आना जाना एह जग न असल टिकाना,
नाम रब दा कदों ध्यान कद नाम दी ज्योत जगानी,
वेला हथ ना औना जी ओ बंदेया जीवन वगदा पानी,

Leave a Reply