jehda naa bole o maiya da chor

आज सुहानी रात है भगतो जगराते दी आई,
सब संगता ने आके दर ते रौनक खूब लगाई,
जय माता दी दिल तो कह दो लाके पूरा जोर,
जेहड़ा ना बोले ओ मैया दा चोर,

नूर इलाही है रूप माँ दा धुर दरगाहो आया,
जिसने शीश निभाया उसने सब कुछ पाया,
भरम भुलेखा दिल को कड देयो सुना न कुछ होर,
जेहड़ा ना बोले ओ मैया दा चोर,

माँ दी ममता दा सागर ता हर दम वग दा रेह्न्दा,
जिसनु इसदि समज न आई ओह दुखड़े ही सेहँदा,
एह वेला फिर मूड नहीं आना जा चरना विच जोड़,
जेहड़ा ना बोले ओ मैया दा चोर,

जेहड़े बच्चे सच्चे दिल तो माँ दी सेवा करदे,
झूठ न बोलै सच मैं बोला ओहि देखे तरदे,
कह वार्टिया आज तो फड़ ले माँ दे नाम दी डोर,
जेहड़ा ना बोले ओ मैया दा चोर,

Leave a Reply