jihne marji jog khjaane naal tere kuj jana nhi

जिने मर्जी जोड़ खजाने नाल तेरे कुझ जाना नही,
नाम दी पूंजी जोड़ मुरखा वेला हथ फिर आना नही,

जिहना दे लई करे तू ठगीया पाप कमावे जी भर के,
मोह माया विच फस के मुरखा जाऊंदे ने नित मर मर के,
अंत वेले ओहना धियाँ पुत्रा किसे ने साथ निभाना नही,
नाम दी पूंजी जोड़ मुरखा वेला हथ फिर आना नही,

जिस झूठी शानो शोकत लाई मइयां पीशे नस्दा ऐ,
एह बंगला मिल मोटर मेरी नाल शान दे दसदा ऐ,
एहना ली की पौने पवाडे वेखन लई तू आना नही,
नाम दी पूंजी जोड़ मुरखा वेला हथ फिर आना नही,

याद रखी नही जेब कफन नु जो तेरे गल पेना ऐ,
सड़ जाना सब नाल चेता दे जग दा देना लेना ऐ,
लेखा जोखा तेरे कर्मा दा होर किसे भुगतना नही,
नाम दी पूंजी जोड़ मुरखा वेला हथ फिर आना नही,

बचपन खेल गवाया जवानी विशियाँ विच गवाई तू,
वेख भुदापा हूँ रोंदा ऐ किती न नेक कमाई तू,
आजे भी वक़्त है जाग नींद तो दास जे तू पश्ताना नही,
नाम दी पूंजी जोड़ मुरखा वेला हथ फिर आना नही,

Leave a Reply