kare mehar di cha mera paunahari lekha nu nikhar deve jewan sanwaar deve

करे मेहर दी छां,मेरा पौनाहारी,
लेखा नु निखार देवे जीवन संवार देवे,
भगता दे दुबे वेहड़े पला विच तार देवे,
फड़े जिह्ना दी बाह मेरा पौन्हारी
करे मेहर दी छा मेरा पौनाहारी,

अखियाँ दीदार लाई जो रेह्दियाँ प्यासियाँ,
आनियाँ वी अखा ओहो हो गईयाँ सुजखियाँ,
दाइयां दा भंगार है ओह भक्शंहार है,
देंदा सबे दुखियां दे कारज संवार है ओह,
दवे शरण विच था मेरा पौनाहारी,
करे मेहर दी छा मेरा पौनाहारी,

निओतियाँ दी ओट ओह निप्तियाँ दी पत है,
भगता दे सिर उते रहंदा ओहदा हथ है,
नाथा दा नाथ है ओह भगता दे साथ है ओह,
पाउंदा हर झोली विच सुखा दी सोगात है ओह,
तार देवे फड बाह मेरा पौनाहारी,
करे मेहर दी छा मेरा पौनाहारी,
करे मेहर दी छां ……

हो गया सरोये ओहदी भगती च लीं जी,
भर लई खजाने रख बह गया यकीन जो,
जोगी दयावान है ओह बड़ा ही महान है ओह,
मोर ते सवार हो के बेठा भगवान् है ओह,
झुकन वाली था मेरा पौनाहारी,
करे मेहर दी शा मेरा पौनाहारी,

Leave a Reply