kehti hu main ro rokar

आये है श्याम बाबा नीले सवार होके
मेरे घर से अब ना जाना कहती हूँ मैं रो रो के

मेरे घर है बाबा आए खुशियां हज़ार लाये
आँखों की पुतलियों में मेरे श्याम हैं समायें
जीवन की डोर बाबा सब छोड़ दी हैं तो पे
मेरे घर से अब ना जाना कहती हूँ मैं रो रो के

मेरे घर का हर एक कोना सूना पड़ा था मोहन
तूने जो कदम डाले है झूम उठा आँगन
सब पा लिया है बाबा मैंने तो तेरा होके
मेरे घर से अब ना जाना कहती हूँ मैं रो रो के

राखी की अर्ज़ी बाबा रिश्ता यूँ ही निभाना
राधिका की अर्ज़ी बाबा रिश्ता यूँ ही निभाना
जब भी तुम्हे पुकारूँ तुम दौड़े चले आना
महक गया है तन मन मस्ती में तेरी खो के
मेरे घर से अब ना जाना कहती हूँ मैं रो रो के

This Post Has One Comment

Leave a Reply