khali modd di ni mata kade meri

दर माता दे जा के मंग ता सही,
पूरी हॉवे न थोड ता मेनू फड लाई
आसे पासे तेरे गम दा सोहं रब दी,
देवे घेरा न तोड़ ता मेनू फड लाई,
नेरी गमा दी झूली दा तेरे वलो,
देवे मुख न मोड़ ता मेनू फड लाई,
सादिक झलियाँ मात्ता दा लड़ फड लै,
कोई रवे जे थोड ता मेनू फड लाई,

खाली मोड़दी नि माता कदे मेरी,
तू सचे दिलो वेख मंग के ,
झोली भरेगी मुरादा नाल तेरी,
तू सचे दिलो वेख मंग के,
खाली मोड़दी नि …………

परख्दी नी एह खरे सयाने,
एह लज्पाल जमाना जाने,
खाली मोड़दी नि ………..

माता दा दर ऐसा लभ्या,
थोड मुकी दर दर दी ऐ,
माता दे दरवाजे उतो,
सब दी झोली भरदी ऐ,
खाली मोड़दी नि …………

दर दाती दा सब तो सोहना,
एहदे वरगा होर नि होना,
हर मंगते दी आस पुजाना,
आदत इस दे घर दी ऐ,
खाली मोड़दी नि …………

चाह तेनु नहियो माता दियां चीजा दी,
मान रख लेंदी रखियाँ उमीदा दी ,
सोंह रब दी ना लाउंदी जरा देरी,
खाली मोड़दी नि …………

ज्योत माता नाल दिल वाली तार नु ,
रब मन लै तू शेरावाली सरकार नु,
पीछे हट जाऊ गमा दी हनेरी,
तू सचे दिलो वेख मन के,
खाली मोड़दी नि …………

किसे छेह दी न माता कोल थोड ऐ,
पूरी करदी एह सवालियां दी लोड़ ऐ,
गल झूठ नहियो रब दी सोह मेरी,
तू सचे दिलो वेख मंग के,
खाली मोड़दी नि …………

Leave a Reply