koi aaya hai koi aaya hai man ki fulvariya me

कोई आया है कोई आया है,
कोई आया है मन की फूलवरियाँ में,
कोई जादू है उसकी नजरियां में,
कोई आया है कोई आया है,

जब से प्यारी सुरतियाँ मुझको दिखी,
ज़िंदगी मैंने उसके नाम ही लिखी,
है तमना यही दिल में वोही रहे,
बस उसी के सहारे मैं जीती रहु,
सारी नेकी है मेरे सांवरियां में,
कोई आया है कोई आया है,

मेरे दिल पे बड़ा उसने एहसान है,
वही मौला वही भगवन है,
कोई दाता कोई उसको दानी कहे,
इस जहां में उसीका साई नाम है,
वही मालिक है दिल की नगरिया में,
कोई जादू है उसकी नजरियां में,
कोई आया है कोई आया है,

Leave a Reply