Kubera Mantra कुबेर मंत्र का ध्यान – बरसेगा अकूत धन | शक्तिशाली कुबेर मंत्र | ॐ यक्ष कुबेर मंत्र

ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय नमः॥
ॐ ह्रीं श्रीं क्रीं श्रीं कुबेराय अष्ट-लक्ष्मी मम गृहे धनं पुरय पुरय नमः॥
ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धनधान्याधिपतये॥
धनधान्यसमृद्धिं मे देहि दापय स्वाहा॥

देवताओं के कोषाध्यक्ष कुबेर देव का अमोघ मंत्र है। इस मंत्र का तीन माह तक रोज 108 बार जप करें। जप करते समय अपने सामने एक कौड़ी (धनलक्ष्मी कौड़ी) रखें। तीन माह के बाद प्रयोग पूरा होने पर इस कौड़ी को अपनी तिजोरी या लॉकर में रख दें। कहते हैं कि ऐसा करने पर कुबेर देव की कृपा से आपका लॉकर कभी खाली नहीं होगा। हमेशा उसमें धन भरा रहेगा।

Kubera Dhana Prapti Mantra

ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय नमः॥

Om Shreem Hreem Kleem Shreem Kleem Vitteshvaraya Namah॥

गायत्री कुबेर मंत्र Gayatri Kuber Mantra

ॐ यक्षा राजाया विद्महे, वैशरावनाया धीमहि, तन्नो कुबेराह प्रचोदयात्॥

Om Yaksha Rajaya Vidhmaya Alikadeesaya Deemahe Tanna Kubera Prechodayath॥

रावण संहिता के अनुसार भगवान कुबेर की कृपा पाने के लिए ॐ श्रीं, ॐ ह्रीं श्रीं, ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय: नम:। मंत्र का जाप सबसे ज्यादा लाभकारी होता है।

अष्टलक्ष्मी कुबेर मंत्र Ashta Lakshmi Kuber Mantra

ॐ ह्रीं श्रीं क्रीं श्रीं कुबेराय अष्ट-लक्ष्मी मम गृहे धनं पुरय पुरय नमः॥

Om Hreem Shreem Kreem Shreem Kuberaya Ashta-Lakshmi Mama Grihe Dhanam Puraya Puraya Namah॥

बताये गए इस अष्टलक्ष्मी कुबेर मंत्र को यदि साधक शुक्ल पक्ष के किसी भी शुक्रवार की रात्रि में 1000 मंत्रों का जाप करके मन्त्रों का दशांश हवन करता हैं तो उस साधक को अपने जीवन में ऐश्वर्य, लक्षमी, पद प्राप्ति, सुख सौभाग्य, व्यवसाय वृद्धि, आर्थिक विकास, सन्तान सुख उत्तम स्वास्थ्य, आयु वृद्धि, और समस्त भौतिक आदि सुख की कोई कमी नहीं रहती है।

धन प्राप्ति कुबेर मंत्र Dhan Prapti Kuber Mantra

ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय नमः॥

Om Shreem Hreem Kleem Shreem Kleem Vitteshvaraya Namah॥

बताये जा रहे धन प्राप्ति कुबेर मंत्र का नियमित जाप करने से साधक को अपने जीवन में अचानक धन की प्राप्ति होती है।

कुबेर मंत्र Kuber Mantra :

ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धनधान्याधिपतये धनधान्यसमृद्धिं मे देहि दापय स्वाहा॥

Om Yakshaya Kuberaya Vaishravanaya Dhanadhanyadhipataye Dhanadhanyasamriddhim Me Dehi Dapaya Svaha॥

बताये जा रहें श्री कुबेर जी का यह 35 अक्षरी मंत्र है। इस मंत्र में कुबेर देवता के अलग अलग नामों की विशेषताओं के बारे में बताया गया हैं ! यह अमोघ मंत्र कहा जाता है। माना जाता है कि जो भी जातक तीन महीने तक लगातार इस Kuber Mantra का 108 बार जाप करने से उस घर में किसी भी प्रकार धन धान्य की कमी नहीं रहती हैं । यदि बेल के वृक्ष के नीचे बैठ कर इस मन्त्र का एक लाख बार जप किया जाये तो जातक को धन धान्य के साथ सुख और समृद्धि की प्राप्ति भी होती है।

अष्टाक्षर कुबेर मंत्र 8 Akshar Kuber Mantra :

ॐ वैश्रवणाय स्वाहा: (Om Vaishravanay Swaha)

षोडशाक्षर कुबेर मंत्र 16 Akshar Kuber Mantra :

ॐ श्री ऊँ ह्रीं श्रीं ह्रीं क्लीं श्रीं क्लीं वितेश्वराय नम:। (Om Shri um hrim shrim hrim klim shrim klim vitteshvaray namaha)

पंच त्रिंशदक्षर कुबेर मंत्र 35 Akshar Kuber Mantra :

ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धन धान्याथिपतये धनधान्यासमृद्धि दोहि द्रापय स्वाहा।

लक्ष्मी कुबेर बीज मंत्र, अष्ट लक्ष्मी बीज मंत्र , कुबेर मंत्र साधना के चमत्कार, शक्तिशाली कुबेर मंत्र
ॐ वैश्रवणाय स्वाहा , गणेश लक्ष्मी कुबेर मंत्र

Leave a Reply