lagan lagi hai ganpat

मंदिर च बेठे हां तेरे इक धाम जी,
लगन लगी है गनपत तेरे नाम दी,
मंदिर च बेठे हां ….

कोई गुण गावे कोई ताड़ियाँ वजाउंदा ऐ,
जिथे रूप दिसे तेरा शीश नु झुकाउन्दा ऐ,
मिलदी ऐ भागा नाल कीर्तन वाली शाम जी,
लगन लगी है गनपत तेरे नाम दी,

नच्दे गाउंदे भगत अज दर तेरे आउंदे ने,
करके दंडोता सारे तेनु ही म्नाउन्दे ने,
झलक दिख दे तू अपने दीदार दी
लगन लगी है गनपत तेरे नाम दी,

मंदिरा च खड़े तेनु लाल अज पुकार दे,
दर्श विखा दे गनपत वास्ते ने प्यार दे,
अर्ज तू सुन ले अपने भगता ग्वार दी,
लगन लगी है गनपत तेरे नाम दी,

Leave a Reply