maa de darshan mujhe

माँ दे दर्शन मुझे आस दर्शन की लेके मैं तो आया पेहली बार,
मैया जय हो तेरी ओ मैया जय हो तेरी,

प्यास तेरे दर्शन की लेकर है राह निहार रहे,
अमृत की इक बून्द मिले माँ कब तोरा उपहार रहे,
आये तेरी शरण आस दर्शन की लेके मैं तो आया पेहली बार
ओ मैया जय हो तेरी ओ मैया जय हो तेरी,

मन मंदिर में ज्योति जगा के श्रद्धा पुष्प चड़ाउ माँ,
बना के थाली इन होठो की तेरी महिमा गाउ माँ,
खिले मन का चमन आस दर्शन की लेके मैं तो आया पेहली बार
ओ मैया जय हो तेरी ओ मैया जय हो तेरी,

रुडऱानी भरमाणी माइयाँ तुझको शीश झुकाउ माँ,
दे वरदान तेरे चरणों में बार बार याद आउ माँ,
करते दुःख का दमन आस दर्शन की लेके मैं तो आया पेहली बार
ओ मैया जय हो तेरी ओ मैया जय हो तेरी,

तेरे दर्श की चाह में मैया अखियां तरसे राणा की,
दे दर्शन कर प्रशन मैया आस जगा दे राणा की,
करता तुझको नमन आस दर्शन की लेके मैं तो आया पेहली बार
ओ मैया जय हो तेरी ओ मैया जय हो तेरी,

दुर्गा भजन

This Post Has One Comment

Leave a Reply