maa deya mandira di shaan badi anmol

चित करदा रहिये ओहदे कोल माँ दे मंदिरा दी शान बड़ी अनमोल.,

उस दी नजर सवली हो जे उजड्या गुलशन खिल्दा,
जो भी मन विच धार के जाइये ओहि एह फल मिलदा
फिर मन नहियो सकदा डोल माँ दे मंदिरा दी शान बड़ी अनमोल.,

सच्ची सेवा दे विच लग जा छड़ दे झूठे धंदे,
माँ दी रेहमत कट दिन्दी है मोह माया दे फंदे,
बूहे बचैया लाइ रखदी खोल,
माँ दे मंदिरा दी शान बड़ी अनमोल.,

ओस जगह ते लोक बेगाने बन के मिलदे अपने,
जग दाती ने हरमन शाह ते पुरे करदे सपने,
हूँ दसदा बजा के ढोल,
माँ दे मंदिरा दी शान बड़ी अनमोल.,

Leave a Reply