maa har shehar me

झूमे नाचे गाये खुशियां मनाये भकती मन हरने,
नवरातो में आती है सब के घर में माँ हर शहर में,
रखती है अपने भक्तो को नजर में माँ हर शहर में,

मिल के बोलो आज सारा यह है जय जय माँ,
ऐसा नजारा प्यारा मिलेगा अब और कहा,
झूमे नाचे गाये खुशियां मनाये, भकती मन हरने
नवरातो में आती है सब के घर में माँ हर शहर में

कोई यहाँ नहीं माँ जैसा मौका मिले न ऐसा,
जो भी जो मांगे मिले प्यार हो जा पैसा ,
जो माँ के दर पे जाए बिन मांगे ही सब पाए
भर्ती है सब की झोली कोई खाली नहीं आये,
होके शेर पे सवार छोड़ के आई है बहार,
दर्श मिले बार बार सुबह शाम दुपहर में,
नवरातो में आती है सब के घर में माँ हर शहर में

नवरात में आती है ख़ुशी साथ में लाती है सब के घर में हर शहर में,
दुःख हर के ले जाती है सुख भर के वो जाती जीवन भर में हर शहर में,

Leave a Reply