maa ratno pukaardi aaja jogiyan ve tenu sohn mere pyaar di

ताहना मेहना लस्सी रोटी दा दे बेठी हो के मजबूर
पता नही सी ऐनी भूल ने जोगी मेंथो सी कर देना दूर,
जय कार पौनाहारी दा बोल साचे दरबार की जय,

आजा जोगियां वे तेनु सोहं मेरे प्यार दी,
तेरे दर्श दीदार नु माँ रतनो पुकारदी,
आजा जोगियां वे……

मैं जद वी देखा चार चुफेरे तेनु ही बस देखा,
हूँ आया तू आया जोगियां पेंदा तेरा भुलेखा,
जंगला च घूम घूम तेरा राह निहारदी.
आजा जोगियां वे ………..

उडीक तेरी विच पुतरा वे मैं फिरदी झलम झली,
तेरे वाजो हो गई हां मैं बिलकुल कलम कली,
तेरे तो बिना मैं वांग मोया वक़्त गुजार्दी,
आजा जोगियां वे ………..

तेरे मुख चो एको कण माँ सुनन नु तरसन,
प्रगत हो के जोगी ने फिर दिते माँ नु दर्शन,
छड के तू मेनू कली ना गल कर जांदी,
आजा जोगियां वे ……….

Leave a Reply