mahima aprampaar sai ki

महिमा अपरम्पार साई की महिमा अपरम्पार,
साई नैया साई खिवईयां साई मेरी पतवार,
महिमा अपरम्पार साई की महिमा अपरम्पार

तुम करुणामई हो श्री साई तुम ने सब की बिगड़ी बनाई,
जो भी दर पे आया तेरे हो गया बेडा पार,
महिमा अपरम्पार साई की महिमा अपरम्पार

भईजा को दिया वचन निभाया कातेया के प्राणो को बचाया,
ऐसी धन्य तुम्हारी गाथा कलयुग के अवतार,
महिमा अपरम्पार साई की महिमा अपरम्पार

शिरडी आती दुनिया सारी,
सब सुख पाते नर और नारी,
हम को अपनी शरण में रखना सुन लो लखदातार,
महिमा अपरम्पार साई की महिमा अपरम्पार

Leave a Reply