main maa ambke de charna vich sukh dekhe ne

ओहदे दर ते हुन्दे देखे दूर भुलेखे वे,
मैं माँ अम्बके दे चरना विच सुख देखे ने,

जगदम्बे दे रंग न्यारे की की दसा मैं,
सब दुःख दलीदर कट दिते ने सूखा विच वसा मैं,
एथे कम निराले दर ते हुन्दे वेखे ने,
मैं माँ अम्बके दे चरना विच सुख देखे ने,

सच्ची श्रदा वाले नु माँ कदे न मोड़े खाली,
कष्ट मिटाउँदी वरकत पौंदी माँ दी ज्योत निराली,
जिह्ना तन मन लाये माँ मेरी दे लेखे ने,
मैं माँ अम्बके दे चरना विच सुख देखे ने,

चुगिया वाले काले वांगु रखिये माँ ते आसा,
मूक गइयाँ ने दर तेरे ते जन्म जन्म दिया प्यासा,
ताहियो लाउंदे भगत जैकारे इको हेके ने,
मैं माँ अम्बके दे चरना विच सुख देखे ने,

Leave a Reply