main sikhi da nhi chadna rah aariyan tu cheri jaai ve

मैं सीखी दा नही छड़ना राह,
आरिया तू चीरी जाई वे,
आरिया तू चीरी जाई वे,
आरिया तू चीरी जाई वे,
मैं सीखी दा नि…..

सीखी वाली राह उते,
तुरदे ही जावागे,
लोड पई तत्ती रेत,
सिर ते पुआवंगे,
सहनु मौत दी नही परवाह,
आरिया तू चीरी जाई वे,
मैं सीखी दा नि…..

सिंह दशमेश जी दे,
कहिए ते जावांगे,
पिता जी दे नाम लई,
दाग ना लुआवंगे,
असा बंद बंद लेना कटवा,
आरिया तू चीरी जाई वे,
मैं सीखी दा नि…..

दीना अते दुखियां नु,
गले असी लावांगे,
निमानिया निमानियाँ दे,
दुखड़े मितावांगे,
सहनु सिरा दी नही परवाह,
आरिया तू चीरी जाई वे,
मैं सीखी दा नि…..

सिरों वग के किना ही खून चो गया,
चोंक चांदनी दा दिल्ही वल हो गया,
असा खोपड़ियाँ लाइयाँ ने लुहा,
आरिया तू चीरी जाई वे,
मैं सीखी दा नि…..

आरा खिचदा जलाद सूल ढोलियां,
मुखो गज के सी मती दास बोलियाँ,
असा बंद बंद लेना कटवा,
आरिया तू चीरी जाई वे,
मैं सीखी दा नि…..

आरा करदा दो फाड़ है शरीर नु,
लोकी वेख के वगाउंदे अखो नीर नु,
सहनु सिरा दी नही परवाह,
आरिया तू चीरी जाई वे,
मैं सीखी दा नि…..

Leave a Reply