man me bsa kar teri murti utraau main ghirdhar teri aarati

मन में बसा कर तेरी मूर्ति उतारू मैं गिरधर तेरी आरती

करुणा करो कष्ट हरो ज्ञान दो भगवान
भव मै फसी नव मेरी तार दो भगवान
दर्द की दवा तुम्हारे पास है
जिंदगी दया की है भीख मांगती

मांगू तुझसे क्या मैं यही सोचू भगवन
जिंदगी जब तेरे नाम कर दी अर्पण
सब कुछ तेरा कुछ नहीं मेरा
चिंता है तुझे प्रभु संसार की

वेद तेरी महिमा गाए संत करें ध्यान
नारद गुणगान करे छेड़ वीणा तान
भक्त तेरे द्वार करते हैं पुकार
दास नवकिशोर तेरी गाए आरती
मन में बसा कर तेरी मूर्ति उतारू मैं गिरधर तेरी आरती

Leave a Reply