man me vase jinke siya ram pawan hai marghat vale ka dham

पावन है मरघट वाले का धाम मन में वसे जिनके सिया राम,
मन में वसे जिनके सिया राम उनके चरणों में है प्राण,
मन में वसे जिनके सिया राम,

दुखियो के दुखड़े मिटाता है संकट मोचन कहलाता है,
भगतो के हरता दुखड़े तमाम मन में वसे जीने श्री राम,
पावन है मरघट वाले का धाम मन में वसे जिनके सिया राम,

हनुमत उनकी विपता हरे सिया राम का जो भजन करे,
गुण गावो उनके सुबहो और शाम मन में वसे जिनके सिया राम,
पावन है मरघट वाले का धाम मन में वसे जिनके सिया राम,

अपने रंग रंग लो हनुमान सदा रहे सिया राम का धान,
भव से कर देता है पार मन में वसे जिनके सिया राम,
पावन है मरघट वाले का धाम मन में वसे जिनके सिया राम,

सच्चे मन से अर्जी लगा बाबा को दुःख दर्द सुना,
किरपा करते किरपा निधान,मन में वसे जिनके सिया राम,
पावन है मरघट वाले का धाम मन में वसे जिनके सिया राम,

Leave a Reply