maut shirdi me ayae mujhe sai ji ye vachan chahiye

माल और दौलत की हसरत नहीं और नहीं मुझको धन चाहिए,
मौत शिरडी में आये मुझे साई जी ये वचन चाहिए,

जब मुसीबत का सामना साई,
उस दम मुझे थामना कष्ट संकट की जब हो गद्दी,
आप की ही शरण चाहिए,

फूल कलियों ने मांगी दुआ ये तमना है परमात्मा,
एह प्रभु जिस घडी हम खिले हम को शिरडी चमन चाहिए,
साई जी ये वचन चाइये…

जिस घडी अंत होगा मेरा मुझको दर्शन मिले आपका,
जिसमे बाबा हो सूरत तेरी मुझको साई वो मन चाहिए,
साई जी ये वचन चाइये…

बाबा सब पे मेहरबान है हर जगह साई भगवन है,
साई मंदिर यहाँ भी मिले करना उनको नमन चाहिए,
साई जी ये वचन चाइये…

Leave a Reply