mere satguru de darbar sangta aaiya leke dil vich prem pyar

मेरे सतगुरु दे दरबार,
संगता आइयाँ संगता आइयाँ,
लै के दिल विच प्रेम प्यार,
संगता आइयाँ संगता आइयाँ,
मेरे सतगुरु दे दरबार,

बाबा जी दा जन्म दिहाड़ा,
इकठा होया आलम सारा,
है खुश सची सरकार,
संगता आइयाँ संगता आइयाँ,
मेरे सतगुरु दे दरबार,

बाबे दे दर जो वी आये,
खाली झोली भर लै जाए,
हर पासे जय जैकार,
संगता आइयाँ संगता आइयाँ,
मेरे सतगुरु दे दरबार,

बाबा जी हाथ सिर ते थर देयों,
झाली झोली सब दी भर देयो,
बाबा जी देयो सहनु तार,
संगता आइयाँ संगता आइयाँ,
मेरे सतगुरु दे दरबार,

Leave a Reply